हनुमानजी हिन्दू धर्म के महान देवता हैं और उन्हें महाकाय, पवनपुत्र, वायुपुत्र, अंजनीसुत, रामदूत आदि नामों से भी जाना जाता है।

उनके विषय में कई रहस्यों और अद्भुत बातों की चर्चा होती है। यहां हनुमानजी के 10 रहस्यों की चर्चा की जाएगी:

हनुमानजी का जीवनकाल: हनुमानजी के जीवनकाल के बारे में कई विभिन्न कथाएं हैं। बहुत से लोग मानते हैं कि हनुमानजी चौरासी योगिनी देवियों में से एक के आवेश में अवतरित हुए थे और उनका जीवनकाल लगभग 11 युगों तक था।

हनुमानजी का वज्र शक्ति: हनुमानजी को वज्र की शक्ति प्राप्त है, जिसे उन्होंने श्री राम के लिए उपयोग किया था। इस शक्ति की मदद से हनुमानजी ने लंका को जलाकर राख कर दी थी।

हनुमानजी की अद्भुत शक्ति: हनुमानजी अपनी अद्भुत शक्तियों के कारण जाने जाते हैं। उनकी ब्रह्मास्त्र और संकटमोचन मंत्र की शक्ति अत्यंत प्रसिद्ध है।

हनुमानजी की अस्त्र-शस्त्र विद्या: हनुमानजी विद्या और युद्ध के क्षेत्र में अत्यंत प्रवीण थे। उन्होंने अस्त्र-शस्त्र विद्या की अद्भुत ज्ञान प्राप्त की थी और उनका धनुर्विद्या में विशेष अभिरुचि थी।

हनुमानजी का आकार: हनुमानजी का आकार बड़े ही अद्भुत था। विभिन्न कथाओं और प्रतिमाओं में दिखाए गए हनुमानजी के आकार में विस्तार और वृद्धि की चर्चा होती है।

हनुमानजी का अमरत्व: हनुमानजी अमर हैं और उनका जीवन सदैव चलता रहता है। इसलिए विभिन्न युगों में उन्हें दर्शाया गया है।

हनुमानजी का ज्ञान: हनुमानजी को अत्याधिक ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। वे ब्रह्मज्ञानी थे और उन्होंने अनेक विषयों पर गहरा ज्ञान प्राप्त किया था।

हनुमानजी की आराधना: हनुमानजी की आराधना भक्तों द्वारा विशेष भक्ति और आस्था के साथ की जाती है। उनकी आराधना से अश्वमेध यज्ञ और विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है।

हनुमानजी का महत्व: हनुमानजी का महत्व अत्यंत उच्च है। वे भक्तों के संकट हरने और मनोकामनाएं पूर्ण करने में सहायता करते हैं। उन्हें शक्तिशाली, वीर, आदर्श और गुणवान माना जाता है।